राहुल द्रविड़ की कही हुई 10 बातें जो उन्हें दूसरों से अलग और अद्वितीय बनाती हैं


मिस्टर भरोसेमंद जिनको क्रिकेट जगत में दीवार कहा जाता है। हम यहाँ उनकी कही हुई 10 बातें बताने जा रहे हैं। ये 10 बातें राहुल द्रविड़ को बाकी लोगो से अलग खड़ा करती हैं:

1. उम्र के साथ किसी खिलाड़ी का खेलने का तरीका बदलता है, लेकिन उसके बावजूद भी टीम में अहम योगदान दे सकता है। 

2. अगर आप ऐसे खिलाड़ी हो जिसने वर्षों से अपनी टीम के लिए काफी योगदान दिया हो, तो यह एहसास सामान्य नहीं है कि टीम आपको ढो रही है।

3. खराब फॉर्म के कारण मुझे लगा कि मेरा करियर खत्म हो गया है और इस दौरान मैंने अपने ऊपर काफी दबाव भी बना लिया। साथ ही सोचने लगा की खेल को अलविदा कहने का सर्वश्रेष्ठ समय कौन होगा, लेकिन इस तरह के मुश्किल समय में तेंदुलकर किस तरह से निपटे; इस पर ध्यान लगाकर मैंने खुद में बदलाव ला दिया।

4. यह बहुत ख़ास होता है जब आपके सारे प्लान सही ढंग से आकार लेने लगते हैं। मैं उस दौर का हिस्सा रहा हूं, इस पर मुझे गर्व है।

5. सभी के करियर की शुरुआत ही सालों में एक पहचान बन जाती है और तब चाहे आपको वो पहचान पसंद हो या ना हो। आपको उसी पहचान के साथ बचे हुए जीवन को जीना पड़ता है।

6. सच कहूं तो सफल होने के लिए करोड़ों रास्ते हैं लेकिन मैं नहीं बता सकता कि आपके लिए कौन सा रास्ता सही है। हम सभी को अपने अपने रास्ते खुद चुने पड़ते हैं।

7. क्रिकेट अभी भी मेरे लिए एक गेम है, जिसे मैं सबसे ज्यादा एंजॉय करता हूं।

8. कर्नाटक में मैं कोई सबसे ज्यादा टैलेंटेड प्लेयर नहीं था, न हीं इंडिया में इकलौता प्लेयर था। मेरी स्कूल टीम के कुछ खिलाड़ी मुझसे ज्यादा बेहतर शार्ट खेल सकते थे लेकिन मुझे अपने हुनर को निखारने के लिए कड़ी मेहनत करनी पड़ी। रनो को बनाना मेरे लिए कभी आसान नहीं था।

9. फिटनेस की पूरी योजना बनाने और तकनीकी ढंग से लागू करने के लिए पेशेवर विशेषज्ञों की जरूरत होती ही है, और यही कारण है कि मैं बाद के दौर में तब ज्यादा सफल रहा क्योंकि मेरे अपने ट्रेनर आ गए।

10. आप सिर्फ वर्ल्ड कप के बारे में सोचेंगे तो कभी अच्छी टीम नहीं मिल पाएगी। आपको पहले एक अच्छी टीम बनानी होगी, फिर उसके बाद कहीं वर्ल्ड कप के बारे में सोचना चाहिए।


Comment